×

mastery in a sentence

pronunciation: [ [ 'mɑ:stəri ] ]
mastery meaning in Hindi

Examples

  1. Perhaps they did not always realise that the eloquence was not simply a single gift of graceful speech , but was a composite of all the qualities mentioned above , which , in turn , were based upon such seemingly humdrum things as ' close application , mastery of details , perseverance and industry ' .
    शायद उन्होंने हमेशा यह नहीं समझा कि वाकपटुता केवल शालीन भाषण क्षमता की एकमात्र प्रतिभा नही बल्कि उपर्युक़्त सभी गुणों का सम्मिश्रण थी जो कि स्वयं अनथक परिश्रम , विवरण पर पकड़ , दृढ़ता और अध्यवसाय जैसी नीरस बातों पर आधारित थी .
  2. Perhaps they did not always realise that the eloquence was not simply a single gift of graceful speech , but was a composite of all the qualities mentioned above , which , in turn , were based upon such seemingly humdrum things as ' close application , mastery of details , perseverance and industry ' .
    शायद उन्होंने हमेशा यह नहीं समझा कि वाकपटुता केवल शालीन भाषण क्षमता की एकमात्र प्रतिभा नही बल्कि उपर्युक़्त सभी गुणों का सम्मिश्रण थी जो कि स्वयं अनथक परिश्रम , विवरण पर पकड़ , दृढ़ता और अध्यवसाय जैसी नीरस बातों पर आधारित थी .
  3. It was simply the fact that , in order to become one , a man would have to have such a good command of the English language and mastery of law , both of which would involve a great outlay of effort as well as money , that it seemed out of the question that any Indian should aspire to it .
    वास्तविकता यह थी कि बैरिस्टर बनने के लिए किसी भी व्यक़्ति को अंग्रेजी भाषा और कानून , दोनों में जितना प्रवीण होना पड़ता , उसके लिए खूब परिश्रम और धन की जरूरत थी और इसे देखेते हुए किसी भी भारतीय के लिए इसकी आकांक्षा करने का शायद प्रश्न ही नहीं उठता .
  4. Badruddin described a lawyer as one who has “ a hard and clear head , a complete mastery of the facts and law , a power of logical analysis and a calm and lucid exposition of both . . . ”
    बदरूद्दीन ने वकील को उस वऋ-ऊण्श्छ्ष्-यकऋ-ऊण्श्छ्ष्-ति के रूप में वर्णित किया ऋसके पासऋठोस और सऋ-ऊण्श्छ्ष्-पषऋ-ऊण्श्छ्ष्-ट मसऋ-ऊण्श्छ्ष्-तिषऋ-ऊण्श्छ्ष्-क हो , तथऋ-ऊण्श्छ्ष्-यों और कानून पर पूर्ण अधिकार हो , जो तर्कसंगत विशऋ-ऊण्श्छ्ष्-लेषण कर सके और ऋसमें संतुलित और सुबुद्ध वऋ-ऊण्श्छ्ष्-यवसऋ-ऊण्श्छ्ष्-था दोनों की क्षमता हो .
  5. A Sanyasi has shut himself up in a cave to attain mastery over his self and to transcend limitations of nature . The drama opens with the Ascetic standing outside his cave and announcing his liberation in a magnificent soliloquy of seventy-five lines , a fierce indictment of life and its seductions .
    एक संन्यासी ने अपने आप को एक गुफा में बंद कर लिया है , आत्म-सिद्धि के लिए और प्रकृति की सीमाओं से परे जाने के लिए यह नाटक वहां से आरंभ होता है जहां वह ऋषि अपनी गुफा के सामने खड़ा है और पिचहत्तर पंक्तियों के एक उदात्त एकालाप में अपनी मुक्ति की घोषणा कर रहा है जिनमें जीवन पर गंभीर अभियोग के साथ साथ इसके प्रलोभनों की ओर संकेत है .
More:   Prev  Next


PC Version
हिंदी संस्करण


Copyright © 2021 WordTech Co.