×

dismal in a sentence

pronunciation: [ [ 'dizməl ] ]
dismal meaning in Hindi

Examples

  1. Worse, the speech drum-rolled the appointment of a U.S. special envoy to the Organization of the Islamic Conference, directing this envoy to “listen to and learn from” his Muslim counterparts. But the OIC is a Saudi-sponsored organization promoting the Wahhabi agenda under the trappings of a Muslim-only United Nations. As counterterrorism specialist Steven Emerson has noted, Bush's dismal initiative stands in “complete ignorance of the rampant radicalism, pro-terrorist, and anti-American sentiments routinely found in statements by the OIC and its leaders.”
    इसके बजाय उन्होंने मध्य पूर्व से बाहर कट्टरपंथ के विरूद्ध संघर्ष तथा व्यापक रूप में ऐसे कट्टरपंथियों के गुट का उल्लेख किया जो प्रभाव और सत्ता प्राप्त करने के लिए धर्म का प्रयोग कर रहे हैं।
  2. How easy to jump from this dismal pattern and conclude that the religion of Islam itself must be the cause of the problem. The ancient fallacy of post hoc, ergo propter hoc (“after something, therefore because of it”) underlies this simplistic jump. In fact, the current predicament of dictatorship, corruption, cruelty, and torture results from specific historical developments rather than the Koran and other sacred scriptures.
    इस निराशजनक परिपाटी के आधार पर इस निष्कर्ष पर पहुँचना अत्यंत सरल है कि इस्लाम मजहब अपने आप में ही समस्या का कारण है। वास्तव में वर्तमान तानाशाही, भ्रष्टाचार, क्रूरता, उत्पीडन किसी विशेष ऐतिहासिक घटनाक्रम का परिणाम हैं न कि कुरान और अन्य पवित्र ग्रन्थों का ।
  3. And so, they experiment with compromise, unilateralism, enriching their enemies, and other schemes. But as Douglas MacArthur observed, “In war, there is no substitute for victory.” The Oslo diplomacy ended in dismal failure and so will all the other schemes that avoid the hard work of winning. Israelis eventually must gird themselves to resuming the difficult, bitter, long, and expensive effort needed to convince the Palestinians and others that their dream of eliminating Israel is defunct. Should Israelis fail to achieve this, then Israel itself will be defunct.
    ये सभी रूख अपनी मूल भावना में काफी भिन्न हैं और अपने आप में पूर्ण हैं लेकिन मूल बिन्दु सबमें समान है. सभी संघर्ष का प्रबंधन करना चाहते हैं न कि उसका समाधान . फिलीस्तीनी अस्वीकृति को नजरअंदाज कर उसे स्वीकृत कराने की आवश्यकता से सब बच रहे हैं. सभी युद्ध को जीतने के बजाए उसे तोड़ने मरोड़ने में लगे हैं.
  4. While there is still food in the markets, there are signs that supplies are shrinking, the World Food Program said. The country's agricultural potential is limited by water shortages and the cultivation and consumption of qat, a water-intensive plant producing the mild narcotic leaf that Yemenis like to chew. For households in urban areas, the breakdown in law and order has made it harder to get food. Comment : Horrible as this sounds, it's just the beginning of Yemen's woes. There seems to be no way out of the dismal fate that awaits the country.
    यमन के इस्लामवादी इस्लाह राजनीतिक दल से लेकर जो कि संसदीय चुनाव में भाग लेता है सउदी सेना से टक्कर लेने वाले हूती विद्रोही और अरब प्रायद्वीप में अल कायदा तक बिखरे हैं। उनकी बढ्ती शक्ति ईरान समर्थित राज्यों और संगठनों के “ प्रतिरोध खंड” को बल प्रदान करती है । यदि यमन में शिया सुन्नी पर भारी पड्ते हैं तो इससे तेहरान को ही लाभ होगा।
  5. The reasoning of those who capitulate is as unexceptional as it is dismal: “This decision was based solely on concern for public safety”; “the safety and security of our customers and employees is a top priority”; “I feel real fear that someone will slit my throat”; “If I would have said what I actually think about Islam, I wouldn't be in this world for long”; and “'If this goes down badly, I'm writing my own death warrant.”
    इसके लिये जो कारण दिये गये वे संतोषजनक नहीं हैं। “ यह निर्णय सार्वजनिक व्यवस्था बनाये रखने के लिये था”, “ अपने ग्राहकों और कर्मचारियों की सुरक्षा हमारा प्राथमिक दायित्व है” “ मुझे इस बात का डर है कि कोई मेरा गला काट देगा” “ मैं इस्लाम के सम्बन्ध में जो सोचता हूँ यदि उसे बता दूँ तो निश्चय ही इस विश्व में नहीं रह सकूँगा”। “ यदि ऐसा मैं करूँ तो यह यह मृत्यु को न्योता देना होगा”।
  6. Likud, expected to slip into a dismal third place in the March voting, stands the most to gain from Sharon's exit. Kadima's members came disproportionately from its ranks and now Likud conceivably could, under the forceful leadership of Benjamin Netanyahu, do well enough to remain in power. Likud's prospects look all the brighter given that Labour has just elected a radical and untried new leader, Amir Peretz. More broadly, the sudden leftward turn of Israeli politics in the wake of Sharon's personal turn to the left will stop and perhaps even be reversed.
    मार्च के चुनावों में अच्छा स्थान प्राप्त कर लिकुड का ही प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहने वाला था लेकिन अब शेरोन के जाने से सबसे अधिक लाभ उसी को होने वाला है . कदीमा के सदस्य गैर- आनुपातिक तरीके से लिकुड से ही आते हैं और अब बेन्जामिन नेतान्यहू के सशक्त नेतृत्व में यह सत्ता में रहने में सफल हो सकेगी . लिकुड की संभावनायें इसलिए भी उज्जवल हैं क्योंकि लेबर ने अभी एक कट्टर और बिना आजमाए हुए अमीर पेरेज को अपना नेता चुना है .
  7. As an American who sees his country as a force for good, these developments are painful and scary. The world needs an active, thoughtful, and assertive United States. The historian Walter A. McDougall rightly states that “The creation of the United States of America is the central event of the past four hundred years” and its civilization “perturbs the trajectories of all other civilizations just by existing.” Well not so much perturbation these days; may the dismal present be brief in duration. Related Topics: US policy receive the latest by email: subscribe to daniel pipes' free mailing list This text may be reposted or forwarded so long as it is presented as an integral whole with complete and accurate information provided about its author, date, place of publication, and original URL. Comment on this item
    एक अमेरिकी जो कि अपने देश को अच्छे के लिये एक ताकत के रूप में देखता है उसके लिये ये घटनाक्रम अत्यंत पीडादायक और डरावने हैं। विश्व को एक सक्रिय , विचारपूर्ण और आग्रही अमेरिका की आवश्यकता है। इतिहासकार वाल्टर ए मैकडोगल ने सही ही कहा है , “ संयुक्त राज्य अमेरिका का निर्माण पिछले चार सौ वर्षों की सबसे प्रमुख घटना है” और इसकी सभ्यता “अन्य सभी सभ्यताओं की दिशा को मात्र अस्तित्व से ही अस्थिर कर देती है” इन दिनों अधिक उथल पुथल नहीं होगी परन्तु यह निराशाजनक वातावरण संक्षिप्त ही होगा।
  8. One factor that could help prevent this dismal outcome would be for mainline Protestant churches to speak out against Palestinian Muslims for tormenting and expelling Palestinian Christians. To date, unfortunately, the Episcopalian, Evangelical Lutheran, Methodist, and Presbyterian churches, as well as the United Church of Christ, have ignored the problem. Related Topics: Anti-Christianism , Palestinians receive the latest by email: subscribe to daniel pipes' free mailing list This text may be reposted or forwarded so long as it is presented as an integral whole with complete and accurate information provided about its author, date, place of publication, and original URL. Comment on this item
    एक तरीका यह हो सकता है कि मुख्य धारा के प्रोटेस्टेंट चर्च फिलीस्तीनी मुस्लिमों द्वारा फिलीस्तीनी ईसाईयों को निकालने और प्रताड़ित करने का विरोध करे . दुर्भाग्यवश एपिस्कोपालियन , एवेंन्जेलिकल लूथरन , मैथोडिस्ट , प्रेसबेटेरियन् चर्चों और यूनाईटेड चर्च ऑफ क्राईस्ट द्वारा इस समस्या की उपेक्षा हो रही है. इन चर्चों का ध्यान इस समस्या के बजाए इजरायल के नैतिक पराभव और यहां से अपना निवेश हटाने पर अधिक रहता है . इजरायल के प्रति उनका इतना लगाव है कि वे अपने जन्मस्थान में ही अंतिम सांसे गिन रही ईसाइयत के प्रति ध्यान नहीं दे पा रहे हैं. आश्चर्य है.. आखिर वे कैसे जागेंगे ?.
  9. While the document unobjectionably emphasizes American constitutional values and the need to partner with Muslims, it says not a word about the need to distinguish between Islamist and anti-Islamist Muslims. Empowering finesses the dismal fact that Islamists dominate the organized American Muslim leadership and their objectives share more with terrorists than counterterrorists. Rep. King correctly worries that the White House document condemns “legitimate criticism of certain radical organizations or elements of the Muslim-American community,” something urgently needed to distinguish foe from friend.
    यद्यपि प्रपत्र बिना किसी आपत्ति के अमेरिका के संवैधानिक मूल्यों पर जोर देते हुए मुसलमानों के साथ सहयोग बढाने की आवश्यकता बताता है परंतु यह इस्लामवादी और गैर इस्लामवादी मुसलमानों के मध्य विभेद करते हुए एक भी शब्द नहीं कहता। सशक्तीकरण प्रपत्र अत्यंत नाजुक ढंग से इस खतरनाक तथ्य को स्वीकार करता प्रतीत होता है कि इस्लामवादी संगठित अमेरिकी मुस्लिम नेतृत्व पर हावी हैं और उनके उद्देश्य आतंकवादियों से अधिक मिलते हैं न कि आतंकवाद प्रतिरोधियों से। रिपब्लिकन किंग ने सही ही चिन्ता व्यक्त की है कि व्हाइट हाउस दस्तावेज “ कुछ कट्टरपंथी संगठनों और अमेरिकी मुस्लिम समुदाय के कुछ तत्वों की वैधानिक आलोचना की भी निंदा करता है” । तत्काल इस बात की आवश्यकता है कि शत्रु और मित्र की पहचान के लिये कुछ किया जाये।
  10. Or so they did until six weeks ago. On Nov. 21, Sharon left Likud and formed his own party, called Kadima. He took this radical step in part because his views vis-à-vis the Palestinians had evolved so far from Likud's nationalist policies, as shown by his withdrawal of Israeli forces and civilians from Gaza during mid-2005, that he no longer fit there. Also, he had attained such personal popularity that he attained the stature to found a party in his own image. His move was exquisitely timed and enormously successful. Instantly, the polls showed Kadima effectively replacing Labour and Likud. The latest survey , conducted by “Dialogue” on Monday and published yesterday, showed Kadima winning 42 seats of the 120 seats in the Knesset, Israel's parliament. Labour followed with 19 seats and Likud trailing behind with a dismal 14.
    ऐसा वे पिछले 6 सप्ताह तक करते रहे . जबतक 21 नवंबर को शेरोन ने लिकुड पार्टी को छोड़कर कदीमा नामक नई पार्टी बना ली . उन्होंने यह कदम धीरे -धीरे उठाया क्योंकि फिलीस्तीनियों की नजर में उनका दृष्टिकोण लिकुड के आधार पर ही विकसित हुआ था और 2005 के मध्य में गाजा से इजरायली सेनाओं और लोगों की वापसी के निर्णय के बाद लगा कि वे वहां के लिए भी उपयुक्त नहीं रहे. इसके अलावा उन्होंने इतनी व्यक्तिगत लोकप्रियता अर्जित कर ली थी कि अपनी छवि के आधार पर नई पार्टी के गठन का उनका कद हो गया था . उन्होंने बहुत सोच समझ कर सही समय पर कदम उठाया था जो काफी सफल रहा .तत्कालीन सर्वेक्षणों से पता चला है कि लिकुड और लेबर का स्थान कदीमा ने ले लिया है. Dialogue द्वारा सोमवार को किए गए और कल प्रकाशित सर्वेक्षण में बताया गया है कि इजरायल की संसद नेसेट की 120 की सदस्य संख्या में कदीमा को 42 स्थान मिलने वाले हैं जबकि लेबर और लिकुड क्रमश: 19 और 14 स्थानों के साथ काफी पीछे हैं.
More:   Prev  Next


PC Version
हिंदी संस्करण


Copyright © 2021 WordTech Co.